Featured

स्पेशल रिपोर्ट: रूसी आर्मी गेम्स में भाग लेने भारतीय टैंक टीम मास्को में

टैंक गेम

नई दिल्ली। रूस द्वारा आयोजित अंतरराष्ट्रीय सैन्य खेलों (इंटरनैशनल आर्मी गेम्स) में भारतीय थलसेना की दो टीमें भी भाग लेंगी। 28 जुलाई से 11 अगस्त तक आयोजित हो रहे इन सैन्य खेलों में 27 देशों की 162 टीमें भाग लेंगी। इन खेलों के दौरान सैन्य समाघात से सम्बन्धित 28 प्रतिस्पर्धाएं होंगी। भारतीय थलसेना दो प्रतिस्पर्द्धा में भाग लेगी।





हर साल आयोजित होने वाले इस आर्मी गेम्स के लिये रूस ने छह और साथी देशों चीन, आर्मेनिया, अजरबैजान, बेलारूस, ईरान और कजाकस्तान को साझा मेजबान बनाया है। कई प्रतिस्पर्धाएं इन देशों में भी होंगी।

भारतीय थलसेना दो प्रतिस्पर्धाएं टैंक बायथलान और एलब्रस रिंग में भाग लेने जा रही है। ये दोनों रूस में ही होंगी। एलब्रस रिंग एलब्रस पहाड़ी पर आयोजित होगा जिसमें पर्वतीय युद्ध समाघात गश्ती के गेम्स होंगे। पिछले साल भारतीय थलसेना ने दो प्रतिस्पर्धाओं टैंक बायथलान और स्नाइपर कम्पीटीशन में भाग लिया था।

कुछ प्रतिस्पर्धाओं में भारतीय टीम पर्यवेक्षक के तौर पर भाग लेंगी। इनमें से दो रूस और तीन चीन में होंगी। चीन में आयोजित होने वाली प्रतिस्पर्धाओं में बीएमपी क्रु अटैक, सी बार्न असाल्ट,  इंजीनियरों के लिये सेफ रूट कम्पीटीशन शामिल हैं। अगले साल भारत एक स्पर्धा की मेजबानी कर सकता है। यह आर्मी स्काउट मास्टर्स कम्पीटीशन है जिसमें संयुक्त गश्ती प्रतिस्पर्धा होती है।

इन खेलों में पाकिस्तान की थलसेना भी अपनी टीम भेज रही है। भारतीय थलसेना शुरू से ही इन गेम्स में भाग लेती रही है। इनके अलावा सात स्पर्घाओं में 10 भारतीय पर्यवेक्षक भी भाग लेंगे। भारतीय थलसेना की टैंक टीम बायथलान प्रतिस्पर्धा के लिये पहले ही मास्को पहुंच चुकी है। चूंकि भारतीय थलसेना में रूसी मूल के टैंक ही शामिल हैं इसलिये भारतीय थलसेना को रूसी थलसेना ने अपने टैंक ही मुहैया कराया है।

 

Comments

Most Popular

To Top