Featured

अब भारत की नजर ‘विध्वंसक’ हथियारों पर, इन्हें भेदना आसान नहीं..

Anti Missile System & Anti Tank Missile

पड़ोसी देशों से लगातार मिल रही चुनौती के बाद भारत सरकार अपने रक्षा संसाधनों के विकास और बढ़ोत्तरी पर ध्यान दे रही हैं। वहीँ, सहयोगी देशों के बीच हुए सौदों में भी तेजी आई है। हाल ही में भारतीय वायुसेना ने इंटिग्रेटेड वेपन सेंसर सिस्टम से लैस लड़ाकू विमान राफेल की डील फाइनल की है। राफेल के बाद भारत अनमैंड एरियल व्हीकल प्रीडेटर को अपनी सेना में शामिल करना चाहता है इस पर बातचीत शुरू हो चुकी है। आइये जानते हैं कि आखिर कौन-कौन से ऐसे महत्वपूर्ण हथियार हैं, जो जल्द ही भारतीय रक्षा प्रणाली में शामिल हो सकते हैं या जिनकी खरीद पर भारत नजर बनाए हुए है।





अनमैंड एरियल व्हीकल प्रीडेटर (अमेरिका)

अनमैंड एरियल व्हीकल प्रिडेटर (अमेरिका)

अनमैंड एरियल व्हीकल प्रीडेटर (अमेरिका)

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

अनमैंड एरियल व्हीकल प्रीडेटर खरीदने के लिए भारत का अमेरिका से सौदा चल रहा है। प्रीडेटर जनरल एटॉमिक्स द्वारा बनाया गया यूएवी है, जिसका मुख्य काम दुश्मन के इलाके में निगरानी करना है, वहीं इनमें दो से छह जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइलें भी लगाई जा सकती है। हालांकि, भारत जिस प्रीडेटर को खरीदने की बात कर रहा है, वो सिर्फ जासूसी और निगरानी के लिए इस्तेमाल होता है। जून 2011 में फाइनल हुई एक डील के तहत भारत अमेरिका से 10 सी-17 हेवी लिफ्ट मिलिट्री एयरक्राफ्ट खरीदेगा। ये डील 4.1 बिलियन डॉलर में फाइनल हुई थी।

Comments

Most Popular

To Top