Featured

स्पेशल रिपोर्टः भारत-इटली अब रक्षा रिश्तों का विस्तार करेंगे

नई दिल्ली।  भारत और इटली ने आपसी रक्षा सम्बन्धों को और विस्तार देने का फैसला किया है। इटली के प्रधानमंत्री गुइसेप कोंटे (Giuseppe Conte) और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की यहां मंगलवार को हुई बातचीत के बाद जारी साझा बयान में कहा गया है कि दोनों नेताओं ने दोनों देशों के बीच नियमित तौर पर चल रहे रक्षा आादान प्रदान की अहमियत को स्वीकारा है।





गौरतलब है कि भारतीय वायुसेना के लिये इटली की कम्पनी फिनमैकेनिका द्वारा निर्मित वीवीआईपी हेलीकाप्टरों का सौदा दलाली के आरोपों में फंसने के बाद भारत और इटली के राजनीतिक सम्बन्धों पर आंच आ गई थी। लेकिन अब इटली के प्रधानमंत्री ने भारत का दौरा कर यह संदेश दिया है कि उनका देश भारत के साथ अपने राजनीतिक और आर्थिक सम्बन्धों को सामान्य बनाना चाहता है।

दोनों प्रधानमंत्रियों के बीच हुई बातचीत के दौरान भारत की ओर से कहा गया है कि रक्षा क्षेत्र में मेक इन इंडिया के तहत इटली की रक्षा कम्पनियों का भारत में स्वागत है। भारत और इटली के बीच रक्षा सहयोग औऱ आदान-प्रदान गहरा करने के इरादे से ही इस साल 16 मई को भारत इटली संयुक्त रक्षा समिति की बैठक रोम  में हुई थी। इसके बाद गत 11 और 12 अक्टूबर को रोम में ही सैन्य सहयोग दल की नौंवी बैठक हुई थी। इन बैठकों में दोनों पक्षों के बीच दि्वपक्षीय सहयोग के कार्यक्रम तैयार किये गए।

भारत और इटली आपसी रक्षा रिश्तों को और व्यापक आधार देने पर सहमत हो गए हैं। इटली की कम्पनियां भारत की कम्पनियों के साथ रक्षा साज सामान के डिजाइन एवं विकास पर साझा काम करने का भी फैसला किया गया है।

दोनों प्रधानमंत्रियों के बीच बातचीत के दौरान यह भी कहा गया कि दोनों देश, शांति, स्थिरता और एक दूसरे की समृदिध के लिये मिल कर काम करेंगे। दोनों देशों ने आपसी राजनयिक रिश्तों की स्थापना की  70  वीं सालगिरह के दौरान एक दूसरे के यहां सांस्कृतिक कार्यक्रम और दलों के आदान-प्रदान का भी फैसला किया है।

 

Comments

Most Popular

To Top