Featured

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने CRPF और RAF की तारीफ में कहा-विपरीत परिस्थितियों में भी खरे उतरे हैं ये बल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में रविवार को Rapid Action Force (RAF) का 26वां स्थापना दिवस समारोह मनाया गया। इस अवसर पर एक आकर्षक परेड का भी आयोजन किया गया। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित हुए और परेड की सलामी ली। उन्होंने परंपरागत ढंग से परेड का निरीक्षण भी किया।





उग्रवाद खत्म करने में CRPF की महत्वपूर्ण भूमिका

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) ने देश की सुरक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्होने कहा कि CRPF ने जहां एक ओर कश्मीर में आतंकवाद को नियंत्रित किया है, वहीं पूर्वोत्तर राज्यों में उग्रवाद को समाप्त करने में महत्वपूर्ण सफलता प्राप्त की है। जो उग्रवाद कभी 126 जिलों में फैला था वह आज 10-12 जिलों तक सिमट कर रह गया है। गृहमंत्री ने कहा कि इसका श्रेय CRPF को जाता है।

आतंकवाद का कड़ा जवाब देती है CRPF

उन्होंने कहा कि कश्मीर के लोग भारत के अपने ही लोग हैं इसलिए CRPF को उनके बीच बहुत ही सूझबूझ के साथ काम करना होता है। लेकिन जब आतंकवाद की बात आती है, CRPF उसका कड़ा जवाब देती है। उन्होंने कहा कि यह CRPF की साख का सबूत है कि राज्यों द्वारा उसकी निरंतर मांग की जाती है। Rapid Action Force (RAF) के जवानों की प्रशंसा करते हुए गृहमंत्री ने कहा कि दंगा नियंत्रण जैसे मोर्चे पर इन्होंने महत्वपूर्ण काम किया है। उन्होंने कहा कि CRPF राज्यों की पुलिस के साथ समन्वय बैठा कर काम करती है। उन्होंने कहा कि 2018 में CRPF ने 131 नक्सलियों को मार गिराया और 1278 को जिंदा पकड़ लिया। 58 नक्सली आत्मसमर्पण के लिए मजबूर हुए।

शहीदों के परिजनों को मिलेंगे एक करोड़ रुपये

CRPF के सामाजिक पक्ष की प्रशंसा करते हुए गृहमंत्री ने कहा कि शांति और विकास के लिए इसने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। CRPF ने नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में विकास के लिए भी काम किया है। CRPF ने 52 गांव को गोद लिया है। इन गांवों में CRPF के जवान लोगों को पर्यावरण संरक्षण और स्वच्छता जैसे मुद्दे पर जागरूक करते हैं। CRPF ने सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने के साथ ही प्लास्टिक के इस्तेमाल पर भी रोक लगाई है। गृहमंत्री ने कहा कि जवानों की शहादत पर अब उनके परिजनों को कम से कम 1 करोड़ रुपया देने का प्रावधान किया गया है।

राजनाथ सिंह ने कहा कि सरकार बल के अधिकारियों और जवानों के कल्याण के लिए भी कई महत्वपूर्ण योजनाएं चला रही है। जवानों के लिए आवासीय मकान बनाए जा रहे हैं और उनके बच्चों की पढ़ाई और शादी आदि के लिए वित्तीय मदद मुहैया कराई जा रही है। CRPF के महानिदेशक राजीव राय भटनागर ने मुख्य अतिथि का स्वागत किया।

अधिकारी और जवान वीरता पदक से सम्मानित

कार्यक्रम में 15 अधिकारियों और जवानों को वीरता पदक से सम्मानित किया गया। जबकि दो अधिकारियों को सराहनीय सेवा पदक मिला। जिन अधिकारियों और जवानों को वीरता पदक से नवाजा गया उनके नाम हैं कमांडेंट किशोर कुमार, हवलदार अरुण कुमार, सिपाही मनीष कुमार यादव, सिपाही प्रदीप कुमार सिंह और सिपाही पठारे स्वप्निल हेमराज़। इन्हें कश्मीर में अवन्तिपुरा में आतंकवादियों के खिलाफ सफल कार्रवाई के लिए सम्मानित किया गया। कश्मीर में सुंबल में CRPF कैंप पर फिदायीन आतंकी हमले के दौरान वीरता प्रदर्शित करने के लिए सहायक कमांडेंट शंकर लाल जाट और पंकज हल्लू, हवलदार पंकज कुमार तथा सिपाही राम दुलारे और बलराम टूरु को सम्मानित किया गया। कश्मीर में कुपवाड़ा में आतंकवादियों के खिलाफ अभूतपूर्व शौर्य प्रदर्शन के लिए निरीक्षक सुब्रमण्यम जी तथा सिपाही मोहम्मद अशरफ और मंधीर सिंह को तथा अनंतनाग में बैंक हमले में आतंकवादियों को मारने वाले हवलदार कौशल कुमार को तथा बिज बेहरा अनंतनाग में सीमा सुरक्षा बल (BSF) के काफिले पर आतंकी हमले के दौरान शौर्य प्रदर्शन करने वाले सहायक उपनिरीक्षक नंद किशोर को सम्मानित किया गया। सराहनीय सेवाओं के लिए RAF के डीआईजी दिलीप कुमार और संजय कुमार को सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर RAF के जवानों ने कई हैरतअंगेज कारनामे भी पेश किए। RAF के विशेष वाहनों की भी परेड कराई गई।

7 अक्टूबर 1992 को हुई थी Rapid Action Force की स्थापना

गौरतलब है की दंगे और दंगे जैसी स्थिति को नियंत्रित करने, कानून व्यवस्था से जुड़ी गंभीर समस्याओं के समाधान, भीड़ नियंत्रण और राहत तथा बचाव जैसे कार्यों को अंजाम देने के मकसद से 7 अक्टूबर 1992 को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की 10 बटालियनों की Rapid Action Force (RAF) की स्थापना की गई थी। बाद में जनवरी 2018 में इसमें 5 और बटालियनें जोड़ी गईं। दिल्ली में मुख्यालय के साथ ही RAF की 15 बटालियनें देश के विभिन्न हिस्सों में फैली हैं।

आपातकाल जैसी स्थिति में जनता के बीच कानून व्यवस्था के प्रति विश्वास पैदा करने के उद्देश्य से Rapid Action Force काम करता है। देश के अलावा Rapid Action Force संयुक्त राष्ट्र के शांति मिशन में भी महत्वपूर्ण योगदान देता है। Rapid Action Force ने हैती, कोसोवो और लाइबेरिया में संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन में योगदान दिया है। पहली बार 7 अक्टूबर 2003 को Rapid Action Force को राष्ट्रपति ने सम्मानित किया। 2017 को रजत जयंती समारोह के अवसर पर Rapid Action Force पर डाक विभाग द्वारा टिकट जारी किया गया।

 

 

Comments

Most Popular

To Top