Featured

सैनिकों को अब मिलेंगी अत्याधुनिक मशीनगनें और कार्बाइन

भारतीय सेना के जवान

नई दिल्ली। सेनाओं में छोटे हथियारों की भारी कमी के बीच सरकार ने कहा है कि तीनों सेनाओं के लिए पर्सनल वेपन की पूरी रेंज की खरीद की डील को क्लियर कर दिया है। उल्लेखनीय है कि अरसे से इनकी खरीद का प्रयास नाकाम होता रहा है।





रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में रक्षा खरीद परिषद की बुधवार को मीटिंग हुई, जो इन खरीदारियों पर फैसला करती है। इस महीने परिषद की तीसरी मीटिंग थी। इसमें फैसला लिया गया कि 4607 करोड़ रुपये में 3.5 लाख कार्बाइन, जबकि 3,000 करोड़ में 41,000 लाइट मशीनगन आएगी। जरूरी बात यह है कि 75 फीसदी निर्माण प्राइवेट इंडस्ट्री करेगी।

गत दो महीनों में राइफलों, कार्बाइनों, लाइट मशीनगनों में खरीदारी पर तेजी से फैसले हुए हैं। सरकार ने कहा है कि सीमाओं पर तैनात सैनिकों के लिए इन हथियारों की आवश्यकता एक दशक से अधिक समय से चिंता का विषय है। उनकी जो तत्काल जरुरतें हैं, उन्हें तेजी से पूरा किया जायेगा। बाकी के लिए भारत में निर्माण की व्यवस्था की जाएगी।

लगभग 1,092 करोड़ रुपये की लागत से थलसेना और वायुसेना के लिए हाई कपैसिटी रेडियो रिले भी खरीदे जाएंगे, जो युद्ध के मैदान में सैनिकों को कम्युनिकेशन की भरोसेमंद व्यवस्था उपलब्ध कराएगी। कोस्टगार्ड के लिए पल्यूशन कंट्रोल वाले दो पोत लगभग 673 करोड़ रुपये की लागत से खरीदे जाएंगे।

 

Comments

Most Popular

To Top