Featured

फुरसत में :- जानें कौन हैं वे बाप-बेटे ? जिन्होनें परदे पर जीवंत कर दीं फौजी जिंदगियां

सेना की पृष्ठभूमि या सेना के जवानों पर फिल्मों का निर्माण कोई नई बात नहीं है। फिल्म ‘हकीकत’, ‘हिन्दुस्तान की कसम’, ‘बॉर्डर’ और ‘एलओसी’ सरीखी दर्जनों फिल्में सिनेमा के रूपहले पर्दे पर उतर चुकी हैं। पर हम आज आपको बताएंगे ऐसे पिता और पुत्रों के बारे में जो पर्दे पर फौजी का किरदार अभिनीत कर चुके हैं।





‘हकीकत’ फिल्म में फौजी बने थे धर्मेंद्र

भारत और चीन के बीच 1962 के युद्ध की पृष्ठभूमि पर प्रसिद्ध निर्देशक चेतन आनंद ने ‘हकीकत’ फिल्म बनाई। बलराज साहनी, विजय आनंद, जयंत, धर्मेंद्र और संजय खान सरीखे सितारों से सजी यह फिल्म सही मायनों में ऐसी पहली फिल्म मानी जा सकती है जिसमें युद्ध के दिनों का सजीव चित्रण किया गया है। अभावों के बीच भारतीय जवानों ने किस बहादुरी से दुश्मन का मुकाबला किया वह देखते ही बनता है। धर्मेंद्र ने इस फिल्म में कैप्टन बहादुर सिंह की भूमिका निभाई है। वह बहादुर सिंह जो दुश्मन का मुकाबला करते हुए अपने प्राण न्योछावर कर देता है। इस फिल्म में प्रसिद्ध अभिनेता जयंत ने धर्मेंद्र के पिता की भूमिका निभाई। जयंत इस फिल्म में सेना के सीनियर अफसर बने थे। फिल्म का वह दृश्य अद्भुत है जब कैप्टन बहादुर सिंह के शहीद होने की खबर आती है। जयंत की कैमरे की तरफ पीठ है। वह नक्शे में कुछ मार्क कर रहे हैं। खबर लाने वाला जवान जयंत को कहता है -सर खबर आई है।

जयंत-क्या?

जवान- कैप्टन बहादुर सिंह…(जुबान लड़खड़ाती है) कैप्टन बहादुर सिंह के बारे में?

जयंत- बोलो(जुबान में वही रौबीलापन)

जवान-वो लड़ाई में मारे गए।

(जयंत पर इस खबर का असर होता है लेकिन वह दिखाते हैं कि मानो कुछ हुआ ही नहीं।)

जवान- (हमदर्दी के साथ कुछ कहने की कोशिश करता है) सर!

जयंत-(उसी रौबीली आवाज के साथ) सुन लिया।

जयंत को जवानों को संबोधित करना है। खबर लाने वाला जवान सोचता है कि शायद अब वह जवानों को संबोधित नहीं कर पाएंगे लेकिन जयंत जवानों को संबोधित करते हैं। दीवाली के दिन जवानों को जयंत जवानों को संबोधित करते हैं और उनमें जोश भरते हैं। जयंत के हाव-भाव और आवाज से कहीं भी नहीं लगता कि संबोधन से पहले उन्होंने अपने बेटे की शहादत की खबर सुनी है। कहने का तात्पर्य यह कि देश के सामने रिश्ते-नाते गौण हो जाते हैं। आपको एक दिलचस्प बात यह भी बता दें कि प्रसिद्ध अभिनेता जयंत गब्बर सिंह यानी अमजद खान के पिता थे और उनके दूसरे बेटे का नाम है इम्तियाज। पर्दे पर जयंत की मौजूदगी का अलग ही असर होता था।

Comments

Most Popular

To Top