Featured

सीमा पर गोलीबारी की घटनाएं चार गुणा बढ़ीं, इस वर्ष शहीद हुए BSF के 12 जवान

बीएसएफ

नई दिल्ली। जम्मू में अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तान की तरफ से गोलीबारी की घटनाएं चार गुणा तक बढ़ गई हैं। बिना किसी वजह के पाकिस्तान की तरफ से गोलीबारी की इन घटनाओं में सीमा सुरक्षा बल (BSF) के 12 जवानों की मौत हुई और 40 जवान घायल हुए।





मीडिया खबरों में आंकड़ों के हवाले से बताया गया है कि इस वर्ष सितंबर तक अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर गोलीबारी की 498 घटनाएं हुईं। पिछले वर्ष सितंबर तक गोलीबारी की सिर्फ 111 घटनाएं हुईं थीं। बात अगर इससे भी पहले के तीन वर्षों की की जाए तो सीमा पार से वर्ष 2016 में 204, वर्ष 2015 में 350 और वर्ष 2014 में 127 गोलीबारी की घटनाएं हुईं थीं। आकंड़ो से साफ है कि इस वर्ष हुई गोलीबारी की घटनाएं पांच वर्ष में सबसे ज्यादा हैं।

इस वर्ष सीमा पार से हुई गोलीबारी की घटनाओं में सीमा सुरक्षा बल ने अपने 12 जवानों को खोया है। इन जवानों में कांस्टेबल नरेंद्र सिंह भी हैं जिनकी पिछले महीने पहले बर्बरतापूर्वक हत्या की गई। गौरतलब है कि कांस्टेबल नरेंद्र सिंह जम्मू के रामगढ़ सेक्टर में सीमा चौकी के पास बाड़ के आगे लगे बड़े सरकंडे काटने के लिए गए थे। पाकिस्तानी बॉर्डर एक्शन टीम ने पहले उन्हें गोली मारी और फिर उनका गला रेत दिया। इस वर्ष गोलीबारी की घटनाओं में सीमा सुरक्षा बल के 40 जवान घायल भी हुए है। इतनी संख्या में सीमा सुरक्षा बल के जवान इससे पहले कभी घायल नहीं हुए।

पिछले वर्ष गोलीबारी में सीमा सुरक्षा बल के दो जवान शहीद हुए थे और सात घायल हो गए थे। सीमा पार से गोलीबारी में वर्ष 2016 में तीन जवान शहीद और 10 घायल हुए थे। वर्ष 2015 में एक जवान शहीद और पांच घायल हुए थे। वर्ष 2014 में दो जवान शहीद और 14 घायल हुए थे।

हाल ही में सीमा सुरक्षा बल के जवान की हत्या के बाद अग्रिम चौकियों पर अतिरिक्त सतर्कता बरती जा रही है।

Comments

Most Popular

To Top