Featured

चीन का नया दांव, नेपाल को अपने चार बंदरगाह इस्तेमाल करने की दी सुविधा

चीनी राष्ट्रपति के साथ नेपाल के पीएम ओली

काठमांडू। नेपाल में अपना प्रभाव बढ़ाने के लिए चीन हर दांव आजमा रहा है। अब उसने नेपाल को अपने चार बंदरगाहों का इस्तेमाल करने की अनुमति दी है। जानकारों का मानना है कि चीन के इस कदम से नेपाल की भारत पर निर्भरता कम होगी।





मीडिया खबरों के मुताबिक दोनों देशों के बीच हुए इस समझौते के बाद बाकायदा एक विज्ञप्ति जारी की गई जिसमें कहा गया है कि अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के लिए नेपाल अब चीन के तियानजिन (Tianjin), शेनजेन (Shenzhen), लियांगअंग (Lianyungang) और झानिझियांग (Zhanjiang) बंदरगाहों का इस्तेमाल कर सकेगा। इसके अलावा नेपाल चीन के Lanzhou,Lhasa और Xigatse लैंडपोर्टस (land(dry)ports) का भी इस्तेमाल कर सकेगा।

वर्तमान में नेपाल का अधिकांश व्यापार भारत के कोलकाता के जरिए होता है लेकिन चीनी बंदरगाहों की सुविधा मिलने से नेपाल के पास व्यापार के लिए एक वैकल्पिक मार्ग खुल जाएगा। बता दें कि भारत ने नेपाल को अपने व्यापारिक हितों को पूरा करने के लिए विशाखापट्टनम बंदरगाह की सुविधाओं का इस्तेमाल करने की मंजूरी दी हुई है।

जानकारों का मानना है कि चीन का यह कदम भारत के प्रभाव को कम करने के लिए उठाया गया है। हालांकि व्यापारिक मामलों के कुछ जानकारों का मानना है कि चीन द्वारा दी गई इस सुविधा का तुरंत ज्यादा प्रभाव पड़ने की संभावना नहीं है क्योंकि नेपाल की सीमा से चीन का सबसे नजदीकी बंदरगाह 2600 किलोमीटर दूर है। नेपाल को इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए बुनियादी ढांचा तैयार करना होगा।

 

Comments

Most Popular

To Top