Featured

बदल रहे हैं चीन के तेवर, भारत को संयुक्त सैन्याभ्यास का दिया प्रस्ताव

नई दिल्ली। तकरीबन 70 दिन तक चले डोकलाम विवाद के बाद चीन के तेवर कुछ नरम पड़ते दिखाई पड़ रहे हैं। चीन ने जहां 2017 के सैन्य अभ्यास को बिना किसी कारण के स्थगित कर दिया था। वहीं अब अपनी और से भारत को संयुक्त सैन्याभ्यास का प्रस्ताव दिया है ऐसे में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के चीन दौरे से पहले उसका यह फैसला उसके रवैये में बदलाव का संकेत देता है।





गौरतलब है कि अगले सप्ताह देश की रक्षा मंत्री सीतारमण पेइचिंग दौरे पर जाने वाली हैं। एक वेबसाईट की खबर के मुताबिक इस बीच चीन ने अपने एक आधिकारिक प्रस्ताव में कहा है कि दोनों देशों की सेनाएं इस वर्ष के अंत तक कभी भी साझा सैन्य अभ्यास कर सकती हैं।

आगामी 24 अप्रैल को शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन (SCO) में हिस्सा लेने के लिए सीतारमण पेइचिंग में होंगी। इस संबंध में उनकी चीनी रक्षा मंत्री वेइ फेंघे से भी बातचीत होने की संभावना है। एससीओ के विदेश मंत्रियों की मीटिंग में हिस्सा लेने के लिए सुषमा स्वराज भी इस दौरान पेइचिंग में होंगी। यदि दोनों देशों के मंत्रियों के बीच सैन्याभ्यास प्रस्ताव पर सहमति बनती है तो इसके बाद सचिव स्तर की वार्ता होगी और फिर अगले कुछ महीनों के भीतर ही निश्चित तारीख तय होगी। फिलहाल दोनों देशों के बीच सालाना सैन्य अभ्यास स्थगित चल रहा है। आमतौर पर हर साल की शुरुआत में दोनों देशों के बीच रक्षा सचिव स्तर की बैठक में सैन्य अभ्यास का शेड्यूल तय होता है।

2016 के अंत में भारत ने चीन के साथ 2017 में सैन्य अभ्यास का प्रस्ताव दिया था, लेकिन चीन ने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी थी। यही नहीं, डोकलाम में दोनों देशों की सेनाएं करीब 70 दिन तक आमने सामने डटी रहीं, जिससे काफी तनाव की स्थिति बनी रही थी।हालांकि डोकलाम पठार पर अब भी चीनी सैनिक निर्माण कार्य की कोशिश में हैं, जिस पर भारतीय सेना की पैनी नजर है।

Comments

Most Popular

To Top