Featured

BSF की सीमा चौकियां गुजरात में सौर ऊर्जा से जगमगाएंगी

सीमावर्ती इलाकों में सोलर इनर्जी

अहमदाबाद। सीमा सुरक्षा बल (BSF) की गुजरात फ्रंटियर सुदूर सीमावर्ती इलाकों में स्थित अपनी उन चौकियों में सौर ऊर्जा (solar energy) का इस्तेमाल करने के लिए तैयार है जहां आज तक बिजली नहीं पंहुच पाई है। जल्द ही गुजरात फ्रंटियर पांच मेगावाट का सौर ऊर्जा प्लांट स्थापित करेगा और सौर ऊर्जा से 20 सीमावर्ती चौकियों का अलग-अलग विद्युतीकरण करेगा। एक समाचार एजेंसी की खबर के मुताबिक केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री और BSF के शीर्ष अधिकारियों ने भी इस बात की पुष्टि की है।





केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री हरिभाई चौधरी ने कहा कि BSF गुजरात फ्रंटियर ने सौर ऊर्जा प्रोजेक्ट का एक प्रस्ताव दिया है।

BSF गुजरात फ्रंटियर के महानिरीक्षक संतोष मेहरा ने कहा कि सौर ऊर्जा की दो परियोजनाएं हैं। एक बनासकांठा के Nalabet इलाके में पांच मेगावाट का सौर ऊर्जा का प्लांट और दूसरी परियोजना 20 सीमावर्ती चौकियों को सौर ऊर्जा से जगमगाना है। Nalabet में पांच मेगावाट के सौर ऊर्जा प्लांट के लिए जगह की पहचान कर ली गई है।

दूसरे प्रोजेक्ट में बनासकांठा और कच्छ जिले की 20 सीमावर्ती चौकियों की पहचान की गई है जिन्हें सौर ऊर्जा प्रणाली से सज्जित किया जायेगा। इन चौकियों में जनरेटर के जरिए बिजली की व्यवस्था है। जनरेटर के लिए डीजल टैंकर के जरिए पहुंचाना पड़ता है। अगर जनरेटर काम न करे तो वहां बिजली नहीं होगी। इसलिए BSF गुजरात फ्रंटियर ने केन्द्र सरकार के पास सौर ऊर्जा का यह प्रस्ताव भेजा है। केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री हरिभाई चौधरी ने इस बारे में आश्वासन भी दिया है।

Comments

Most Popular

To Top