Featured

भारत-चीन बॉर्डर पर हुई बॉर्डर पर्सनल मीटिंग, अब तालमेल के साथ गश्त कर सकेंगे सैनिक

भारत और चीन अपने आपसी रिश्तों को सुधारने के लिए लगातार प्रयासरत हैं। हाल ही में प्रधान मंत्री और चीन के राष्ट्रपति शी जिन पिंग की मुलाक़ात के बाद दोनों देशों के बीच सीमा पर सकारात्मक असर दिख रहा है। सूत्रों के मुताबिक दोनों देशें की सेनाओं के शीर्ष अधिकारियों ने सीमा पर शांति और संयम को लेकर वार्तालाप किया। इस बातचीत के बाद सीमा पर तनाव के माहौल को सुधारने की कवायद शुरू हो गई है।





शुरू हुआ द्वीपक्षीय व्यापार

शांतिपूर्ण तरीके से हुई इस बातचीत का ही नतीजा है कि मंगलवार को मजदूर दिवस के मौके पर चुशूल मोलडो सरहद पर आयोजित चीन की ओर से स्पेशल मीटिंग हुई जिसमें दोनों देशों की सेनाएं शामिल हुईं। दोनों देशों के शीर्ष नेताओं की मुलाकात के बाद सेनाओं के बीच यह पहली बैठक है। खास बात यह है कि इस मीटिंग के बाद नाथुला बॉर्डर से भारत-चीन व्यापारियों के बीच द्वीपक्षीय व्यापार भी शुरू हो गया है।

बॉर्डर पर्सनल मीटिंग (बीपीएम) मजदूर दिवस के मौके पर हुई। इसमें सैन्य अधिकारियों और सैनिकों के पारिवारिक सदस्यों ने भी कार्यक्रम में हिस्सा लिया। दोनों पक्षों ने अरुणाचल प्रदेश के किबिथे में वाचा सीमा चौकी पर तोहफे का आदान-प्रदान किया।

एक अंग्रेजी वेबसाईट की खबर के अनुसार सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि अब दोनों देशों की सेनाएं विवादित क्षेत्रों में तालमेल करके गश्त लगा सकेंगी। जिसके लिए प्रत्येक पक्ष दूसरे पक्ष को विवादित क्षेत्र में अपना गश्ती दल भेजने से पहले अग्रिम सूचना देगा। उन्होंने कहा कि दोनों पक्ष स्थानीय घटनाओं का हल 2003 के समझौते के प्रावधानों के अनुसार करेंगे।

Comments

Most Popular

To Top