Featured

बोमडिला मामलाः यदि कोई जवान दोषी पाया जायेगा तो होगी कार्रवाई- सेना प्रमुख

बोमडिला केस

पठानकोट। अरुणाचल प्रदेश के बोमडिला में एक पुलिस थाने में सेना के जवानों की तरफ से कथित तौर पर तोड़फोड़ के मामले में सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा कि घटना की जांच की जा रही है और जो कोई भी दोषी पाया जायेगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।





गौरतलब है कि बीती 2 नवंबर को बोमडिला में पुलिस ने दो जवानों को गिरफ्तार किया था। उसके बाद सेना के जवान और पुलिस के बीच टकराव की स्थिति बन गई थी। मीडिया खबरों के अनुसार पुलिस का आरोप है कि सेना के कर्नल और कुछ जवानों ने थाने में तोड़फोड़ की और पुलिस अधिकारियों को धमकाया। पुलिस का कहना है कि वेस्ट केमांग जिले में बुद्ध महोत्सव के दौरान नागरिकों और पुलिस के साथ कुछ सैनिकों ने जब बदसलूकी की तो स्थानीय थाने के SHO मौके पर पहुंचे और दो सैनिकों को पुलिस थाने ले आए थे। इसके बाद कुछ सैनिक भी बोमडिला पुलिस थाने पहुंच गये और बताया जाता है वहां उन्होंने तोड़फोड़ की तथा पुलिसकर्मियों को भी धमकाया। इस बीच सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कहा कि इस मामले की जांच करवाई जा रही है और यदि कोई भी सैनिक दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

इस घटना के बाद केन्द्रीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और गृह राज्य मंत्री किरेन रिजिजू ने अरुणाचल प्रदेश का दौरा किया। केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री किरन रिजिजू ने रविवार को कहा कि सेना और पुलिसकर्मियों का सम्मान करना चाहिए क्योंकि दोनों ही राष्ट्र की सेवा कर रहे हैं। गृह राज्य मंत्री किरेन रिजिजू ने फेसबुक पर एक पोस्ट में कहा कि थल सेना देश का गौरव है जो हमारी मातृभूमि की रक्षा करती है और पुलिस आंतरिक सुरक्षा का स्तंभ है।

उन्होंने लिखा, हमें सर्वोत्कृष्ट संस्थाओं का सम्मान करना चाहिए। हर व्यक्ति और संस्था कानून के द्वारा एक प्रणाली से शासित होती है… एक-दूसरे का सम्मान करें और उन्हें मजबूत करें।

गृह राज्य मंत्री ने लोगों से अपील की कि वे तथ्यों को जाने बगैर कोई ओछी टिप्पणी न करें।

 

 

Comments

Most Popular

To Top