Featured

जन्मदिन विशेष: इस देशभक्त ने हिलाकर रख दी थीं अंग्रेजी राज की जड़ें, जानें 14 खास बातें

आज शहीद-ए-आजम भगत सिंह का जन्मदिन है। उनका जन्म  सन् 1907 में बंगा (पाकिस्तान) में हुआ था। सच्चाई तो यह है कि देशभक्ति की ऐसी मिसाल न आज तक देखी गई है और न ही आने वाली कई सदियों तक देखने को मिलेगी कि भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव ने भारत को अंग्रेजी दासता से मुक्त कराने के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान दिया। देश के इन तीन वीर सपूतों ने तकरीबन 23 वर्ष की उम्र में फांसी का फंदा हँसते-हँसते गले में डाल लिया और अंग्रेजी हुकूमत को हिलाकर रख दिया है। आज हम आपको बता रहे हैं शहीद-ए-आजम भगत सिंह के बारे में 14 खास बातें।





यूं रखा गया भगत सिंह नाम

शहीद भगतसिंह के घर कि एक तस्वीर (फोटो गूगल)

भगत सिंह का जन्म 28 सितंबर, 1907 को एक देशभक्त परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम किशन सिंह और माता का नाम विद्यावती था। भगत सिंह के पिता किशन सिंह, चाचा अजीत सिंह और स्वर्ण सिंह आजादी की लड़ाई लड़ रहे थे। भगत सिंह जिस दिन जन्मे उसी दिन पिता किशन सिंह और अजीत सिंह जेल से रिहा हुए थे। दादी जयकौर के मुंह से निकला-ऐ मुंडा तो बड़ा भागों (भाग्यवान) वाला है। तय हुआ कि बच्चे का नाम इन्हीं शब्दों से मिलता-जुलता होना चाहिए। इस तरह बच्चे का नाम भगत सिंह रख दिया गया।

Comments

Most Popular

To Top