Featured

सेना ने तीन साधुओं को बचाया, भीड़ ने बच्चा चोर समझकर घेर लिया था

साधुओं को बचाते जवान

गुवाहाटी। असम में सेना के जवानों ने तीन साधुओं को भीड़ द्वारा मारे जाने से बचाया है। ये लोग साधु के वेश में थे भीड़ उन्हें बच्चा चोर समझ रही थी। स्थानीय लोगों ने इन तीनों लोगों को घेर लिया था। वक्त पर अगर वहां सेना के जवान नहीं पहुंचते तो बाकी और राज्यों में अफवाह के कारण जिस तरह हिंसक भीड़ हत्याएं कर रही हैं ऐसा ही कुछ घटित होने का माहौल बन चुका था।





यह घटना असम के डीमा हसाओ इलाके की है। इन तीन लोगों में से दो उत्तर प्रदेश से हैं जबकि एक गुजरात का रहने वाला है। इन लोगों को भीड़ से बचाकर सेना के महुर कैंप ले जाया गया जहां इनसे पूछताछ भी की गई। सेना के अफसरों के मुताबिक ये लोग असम में होने वाले मेले में भाग लेने के लिए यहां आए थे।

अफसरों ने कहा कि साधुओं के सामान को भीड़ ने फेंक दिया। उनकी वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर शेयर की गई। जिसके कारण अफवाहों को बल मिला। वारदात के बाद जिला प्रशासन ने उप-अधीक्षक अमिताभ राजखोवा और पुलिस अधीक्षक प्रसंता सैकिया के नेतृत्व में एक इमरजेंसी मीटिंग बुलाई। विभिन्न समुदायों के प्रतिनिधियों ने बैठक में भाग लिया। उन्होंने लोगों से अपील की कि वह सोशल मीडिया पर फैलाई जा रहीं अफवाहों से बचकर रहें।

जिसके बाद प्रतिनिधियों ने लोगों से कानून को अपने हाथ में न लेने की बात कही। उन्होने कहा कि इसके बजाए अगर आपको किसी शख्स की गतिविधियां संदिग्ध लगती है तो संबंधित अधिकारी को इसकी जानकारी दें। पिछले कुछ हफ्तों में जिला प्रशासन द्वारा लोगों को सोशल मीडिया में फैल रही अफवाहों पर बिना किसी प्रमाणिक आधार के भरोसा न करने की हिदायत दी थी। इसी तरह 8 जून को दो दोस्त जोकि पिकनिक स्थल कार्बी अंगलोंग गए थे। उन्हें गांववालों के समूह ने रोका और बच्चा चोरी के संदेह में पीट पीटकर मार डाला।

 

Comments

Most Popular

To Top