Featured

सफलतापूर्वक संपन्न हुआ सेना का युद्धाभ्यास ‘विजय प्रहार’, 25,000 सैनिक हुए थे शामिल

बीकानेर। राजस्थान के ‘महाजन फील्ड फायरिंग’ रेंज में डेढ माह तक  चले भारतीय सेना के सप्त शक्ति कमान के युद्धाभ्यास ‘विजय प्रहार’ का बुधवार को समापन हुआ। सप्त शक्ति कमान के जनरल ऑफिसर कमाण्डिंग-इन-चीफ, लेफ्टिनेंट जनरल चेरिश मैथसन  ने इस युद्धाभ्यास का अवलोकन किया।





भारतीय सेना के सप्त शक्ति कमान के युद्धाभ्यास ‘विजय प्रहार’ में 25,000 सैनिकों ने अपने पूरे हथियारों और साजो-सामान के साथ हिस्सा लिया।  भारतीय सेना ने बुधवार को अपने हथियारों और साजो-सामान का प्रदर्शन किया।

युद्धाभ्यास के समापन समारोह के दौरान ‘महाजन फील्ड रेंज’ में लेफ्टिनेंट जनरल चेरिश मैथसन  ने संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने इस युद्धाभ्यास के लिए विभिन्न प्रकार के कठिन मापदण्ड तय किए थे और अपने सैनिकों द्वारा हासिल किए गए नतीजों से वे पूरी तरह संतुष्ट हैं।

उन्होंने कहा कि युद्धाभ्यास ‘विजय प्रहार’ एक आक्रामक रणनीति के तहत् वायु एवं पृथ्वी में समन्वित युद्ध के तौर पर पूरी खुफिया जानकारियों का इस्तेमाल करते हुए शुरू हुआ था। अभ्यास में एयर कैवेलरी रणनीति का पूरी तरह से प्रयोग किया गया और हम इसमें सफल हुए। अब सभी सैनिक किसी भी प्रकार की आक्रामक कार्रवाई करने के लिए पूरी तरह से प्रशिक्षित और तैयार हैं।

रसद पहुंचाने की ‘जस्ट इन टाइम’ तकनीक का इस्तेमाल करते हुए अब भारतीय सेना दुश्मन के इलाके में भीतर तक जाकर मार कर सकने में सक्षम है। इस युद्धाभ्यास में वायुसेना के साथ भी बेहतर किस्म का समन्वय स्थापित हुआ। भीषण गर्मी एवं आंधी के वातावरण में जवानों द्वारा पूरी वीरता एवं निष्ठा से किए गए इस युद्ध अभ्यास की काफी सराहना की गई।

Comments

Most Popular

To Top