Army

Army Day Special: सेना के शौर्य और पराक्रम से रूबरू कराती हैं ये 5 फिल्में

युद्ध की पृष्ठभूमि पर फिल्म बनाना चुनौतीपूर्ण काम है, लेकिन इसके बावजूद युद्ध पर दुनियाभर में फिल्में बनती रही हैं। दुनिया में सबसे ज्यादा फिल्में दूसरे विश्वयुद्ध पर बनी हैं। अपने यहां भी 1962 के भारत-चीन युद्ध, 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध और करगिल युद्ध पर फिल्मों का निर्माण हुआ है। आज हम आपको ऐसी ही कुछ फिल्मों के बारे में बता रहे हैं जो युद्ध की पृष्ठभूमि पर बनी है :





फिल्म हकीकत (1964)

फिल्म हकीकत

विख्यात फिल्मकार चेतन आनंद की यह फिल्म हिन्दी सिनेमा की सर्वश्रेष्ठ युद्ध फिल्म मानी जा सकती है। वर्ष 1962 में चीन के साथ भारतीय सेना ने किन हालात में और कैसे युद्ध लड़ा, इसका मार्मिक चित्रण है हकीकत। भारतीय सेना की एक छोटी सी टुकड़ी चीन की विशाल सेना का किस तरह मुकाबला करती है, यह देखते ही बनता है। धर्मेंद्र, बलराज साहनी, विजय आनंद, जयंत और संजय सरीखे सितारों से सजी इस फिल्म का संगीत मदन मोहन ने दिया था। फिल्म के गीत मैं यह सोचकर उसके दर से उठा था.., हो के मजबूर उसने मुझे भुलाया होगा…, कर चले हम फिदा जान-ओ-तन साथियो अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो…, जरा सी आहट होती है… आज भी लोगों की जुबान पर हैं।

Comments

Most Popular

To Top