Featured

कश्मीर मामले पर अमित शाह ने की बैठक, डोभाल समेत आला खुफिया अफसर हुए शामिल

अजीत डोभाल और अमित शाह

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद केंद्र सरकार की पैनी, तीखी और सधे कदमों वाली नजर घाटी और देश के हालात पर है। सीमा के उस पार और इस पार गड़बड़ी पैदा करने वाली ताकतों पर सरकार का ध्यान है। इसी के मद्देनजर आज केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, केंद्रीय गृह सचिव राजीव गाबा समेत खुफिया एजेंसियों के उच्च अधिकारियों के साथ एक समीक्षा बैठक की।





सूत्रों के मुताबिक बैठक में घाटी में पाबंदियों के दौरान कश्मीरी नागरिकों की सुविधाओं का विशेष ध्यान रखने पर जोर दिया गया। अलावा इसके हिंसा भड़काने के उद्देश्य से दी जा रही खबरों तथा तरह-तरह की अफवाहों को कठोरता से कुचलने का भी निर्देश दिया गया।

सुरक्षा एजेंसियों से कहा गया है कि वे अफवाहों को रियल टाइम कॉउंटर करने को लेकर पूरी तरह सतर्क रहें। इस बात की भी समीक्षा की गई कि कश्मीर में लोगों को जरूरी वस्तुओं की कमी तो नहीं हो रही।

मीडिया खबरों के अनुसार घाटी में स्थितियां सामान्य हो रही हैं और सरकार की कोशिश है कि अगले 10 दिनों में लगाई गई बंदिशें हटा ली जाएं। इन सब के बीच सुरक्षा बलों के सामने बड़ी चुनौती पाक सेना की मदद से आतंकियों की घुसपैठ की कोशिशों को नाकाम करते रहने की है। पाकिस्तान की नापाक हरकतें सीजफायर उल्लंघन और आतंकी घुसपैठियों को मदद करने के रूप में दिखाई दे रही हैं। खुफिया इनपुट के मुताबिक बिलबिलाया पाकिस्तान कश्मीर में हिंसा भड़काने की भरसक कोशिश में जुटा है।

Comments

Most Popular

To Top