Featured

50 वर्ष पहले क्रैश हुए था वायुसेना का विमान, अब एक शहीद का पार्थिव शरीर मिला, विमान में सवार थे 102 सैनिक

विमान के कुछ अवशेष मिले

नई दिल्ली। हिमाचल प्रदेश की लाहौल घाटी में वायुसेना के एक विमान के कुछ अवशेष और एक सैनिक का शव मिला है। भारतीय वायुसेना का यह विमान AN-12 पचास वर्ष पहले 1968 में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इस विमान में सेना के 102 जवान सवार थे और यह चंडीगढ़ से लेह जा रहा था।





अंग्रेजी अखबार ‘द टाइम्म ऑफ इंडिया‘ के मुताबिक चंद्रभागा-13 चोटी के सफाई अभियान पर निकले पर्वतारोहियों के एक दल को विमान के अवशेष और एक सैनिक का शव दिखाई दिया। अवशेष समुद्र तल से 6,200 मीटर ऊपर ढाका ग्लेशियर बेस शिविर के पास मिले।

पर्वतारोहियों के टीम लीडर राजीव रावत ने बताया, हमें पहले विमान के कुछ हिस्से दिखाई दिए। इसके बाद हमारी टीम के सदस्यों ने उस जगह से कुछ ही मीटर की दूरी एक सैनिक के शरीर को देखा। हमने तस्वीरें खींची और सेना को भेज दी। अब सेना इस क्षेत्र में तलाशी अभियान चला रही है। बर्फ के नीचे और भी सैनिकों के शव दबे हो सकते हैं।

इससे पहले भी कुछ सैनिकों के शव मिल चुके हैं। वर्ष 2003 में मनाली के ABV Institute of Mountaineering and Allied Sports के एक दल को विमान के कुछ हिस्से और एक सैनिक का शव मिला था। वर्ष 2007 में सेना के एक दल ने तीन सैनिकों के शव खोज निकाले थे। पचास वर्ष पहले हुए हादसे में अब तक पांच जवानों के शव तलाशे जा चुके हैं।

लगभग पचास वर्ष पहले 7 फरवरी 1968 को सोवियत संघ निर्मित AN-12 विमान ने चंडीगढ़ से लेह के लिए उड़ान भरी थी। विमान में 98 सैनिकों और उड़ान दल के चार सदस्यों समेत कुल 102 लोग सवार थे। लेह में मौसम खराब होने की वजह से पायलट ने विमान को चंडीगढ़ वापस ले जाने का फैसला किया लेकिन रोहतांग दर्रे के पास विमान का संपर्क टूट गया और दुर्घटनाग्रस्त हो गया।

Comments

Most Popular

To Top