Featured

ब्रह्मोस मिसाइलों से लैस किये जाएंगे 40 सुखोई-30MKI लड़ाकू विमान

नई दिल्ली। चालीस सुखोई लड़ाकू विमानों को ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइलों से लैस किया जायेगा। मिसाइल लगाने के लिए इन विमानों में बदलाव का काम भी शुरू हो चुका है। जानकारों के मुताबिक सुखोई लड़ाकू विमानों में ब्रह्मोस मिसाइल लगने से भारतीय वायुसेना की मारक क्षमता कई गुना बढ़ जाएगी। एक अखबार में प्रकाशित खबर के अनुसार 40 सुखोई लड़ाकू विमानों को ब्रह्मोस मिसाइल दागने के लिए तैयार करने का काम शुरू हो चुका है और इस परियोजना को पूरा करने के लिए समय सीमा भी तय कर दी गई है। वर्ष 2020 तक यह परियोजना पूरी हो जाने की उम्मीद लगाई जा रही है।





सुखोई विमानों से ब्रह्मोस मिसाइल दागी जा सकी इसके लिए विमानों में संरचनात्मक बदलाव हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड में किया जाएगा। ब्रह्मोस मिसाइल 290 किलोमीटर तक मार कर सकती है और इसका वजन ढाई टन है। यह मैक 2.8 की गति यानी ध्वनि की गति से लगभग तीन गुना गति से चलती है। सुखोई विमानों के इस मिसाइल से युक्त होने के बाद भारतीय वायुसेना की जमीन या समुद्र में किसी भी लक्ष्य को भेदने की क्षमता काफी बढ़ जाएगी। ऐसे दौर में जब दो मोर्चों पर युद्ध का अंदेशा हो वायुसेना की शक्ति बढ़ाने की दृष्टि से यह परियोजना बेहद महत्वपूर्ण मानी जा रही है।

पिछले वर्ष मिसाइल टेक्नोलॉजी कंट्रोल रेजीम (एमटीसीआर) की पूर्ण सदस्यता मिलने से भारत पर लगे कुछ प्रतिबंध हट गए थे। प्रतिबंध हटने से अब मिसाइल की क्षमता को बढ़ाकर 400 किलोमीटर तक किया जा सकता है। गौरतलब है कि भारत ने इस मिसाइल के आकाश से मार करने वाले संस्करण का गत 22 नवंबर को सुखोई लड़ाकू विमान से सफल प्रक्षेपण किया था। यह मिसाइल सुखोई 30 लड़ाकू विमान में तैनात किया जाने वाला सबसे भारी हथियार है।

Comments

Most Popular

To Top