NIA

टेरर फंडिंग : 24 जगह NIA का छापा, डेढ़ करोड़ नकदी, लश्कर-हिजबुल के लेटर हेड बरामद

एनआईए की छापेमारी

नई दिल्ली। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने जम्मू कश्मीर में आतंकवादियों को आर्थिक मदद के मामले में शनिवार को देश में 24 जगहों पर छापे मारे। सूत्रों के अनुसार कश्मीर में 14, दिल्ली में 8 और हरियाणा के सोनीपत में 2 जगहों पर कार्रवाई की गई है। जांच एजेंसी ने घाटी के अलगाववादी नेताओं के घरों, ऑफिस और उनके कमर्शियल ठिकानों पर छापा मारा। इसके अलावा हवाला ऑपरेटर्स के खिलाफ भी कार्रवाई की गई है। जिन अलगाववादी नेताओं के घरों पर छापे मारे गए, उनमें हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के प्रमुख सैयद अली शाह गिलानी के करीबी और रिश्तेदार भी शामिल हैं।





एनआईए ने इस मामले में कश्मीर के अलगाववादी नेताओं के खिलाफ 19 मई को प्रारम्भिक जांच का केस दर्ज किया था, जिसे शुक्रवार शाम को रेग्युलर केस में बदल दिया गया। इसके बाद शनिवार सुबह जांच एजेंसी ने घाटी में अलगाववादी नेताओं के घरों समेत देश में अन्य जगहों पर छापे की कार्रवाई प्रारम्भ की है।

  • कश्मीर में कार्रवाई के दौरान 1.5 करोड़ रुपये और प्रॉपर्टी से जुड़े कागजात जब्त

सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली में आठ हवाला डीलर्स और ट्रेडर्स के खिलाफ भी कार्रवाई की गई है। कश्मीर में कार्रवाई के दौरान 1.5 करोड़ रुपये और प्रॉपर्टी से जुड़े कागजात जब्त किए गए। लश्कर-ए-तैयबा और हिजबुल मुजाहिदीन के लेटरहेड्स, लैपटॉप, पेन-ड्राइव्स भी मिली हैं।

  • लश्कर-ए-तैयबा और हिजबुल मुजाहिदीन के लेटरहेड्स, लैपटॉप, पेन-ड्राइव्स भी मिली

घाटी में हुर्रियत कॉन्फ्रेंस और जम्मू एंड कश्मीर लिबरेशन फ्रंट नेताओं के घरों पर छापे मारे गए हैं। गिलानी के दामाद अल्ताफ फंटू्श, बिजनेसमैन जहूर वटाली, अवामी एक्शन कमेटी के लीडर शाहिद-उल-इस्लाम, अलगाववादी नेता नईम खान, राजा कालवाल इनमें शामिल हैं। दिल्ली में ग्रेटर कैलाश पार्ट-2 में रहने वाले ड्राई फ्रूट व्यापारी मानव अरोड़ा के घर भी छापा मारा गया है और जांच जारी है।

  • इन्फोर्समेंट डायरेक्ट्रेट (ईडी) ने अलगाववादी नेता शब्बीर शाह को फेमा (फॉरेन एक्सचेंज मैनेजमेंट एक्ट) के तहत नोटिस जारी किया है।

दरअसल तीन दिन की एनआईए की पूछताछ में 3 अलगाववादी नेताओं नईम खान, गाजी जावेद बाबा और फारूख अहमद डार उर्फ बिट्टा कराटे ने कथित तौर पर यह माना था कि उन्हें पाकिस्तान से आर्थिक मदद मिलती है। इन नेताओं ने हुर्रियत के तार पाकिस्तान से जुड़े होने की बात मानी थी। जांच एजेंसी ने इनसे अपने दिल्ली हेडक्वार्टर पर 29 मई को सुबह पूछताछ की थी।

इससे पहले एनआईए ने तहरीके-ए-हुर्रियत के नेता बाबा और जम्मू एंड कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के नेता डार से श्रीनगर में लगातार 4 दिनों तक पूछताछ की थी। उस दौरान उनसे कश्मीर में हिंसा के लिए हवाला चैनलों के जरिए फंड जुटाने के आरोप पर सवाल किए गए थे।

एक स्टिंग ऑपरेशन में कश्मीर के अलगाववादियों को पाकिस्तान के आतंकी गुटों से पैसे मिलने की बात का खुलासा हुआ था। इसके बाद 19 मई को एनआईए ने इन अलगाववादी नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज किया था और प्रिलिमिनरी इन्क्वायरी शुरू की थी।

 

Comments

Most Popular

To Top