CBI

अपने ही पूर्व चीफ के खिलाफ CBI करेगी जांच, सुप्रीम कोर्ट ने दिए आदेश

रंजीत-सिन्हा, सीबीआई

सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई पूर्व निदेशक रंजीत सिन्हा के खिलाफ एसआईटी जांच के आदेश दिए हैं। ये मामला कोयला घोटाले से जुड़ा हुआ है। आरोप है कि सिन्हा ने अपने पद का दुरुपयोग कर कोयला घोटाले की जांच को प्रभावित किया।

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई पूर्व निदेशक रंजीत सिन्हा के खिलाफ एसआईटी जांच के आदेश दिए हैं। ये मामला कोयला घोटाले से जुड़ा है। आरोप है कि सिन्हा ने अपने पद का दुरुपयोग कर कोयला घोटाले की जांच को प्रभावित किया। वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने उनके खिलाफ याचिका दायर की थी। भूषण ने आरोप लगाया था कि सीबीआई में रहते हुए उन्होंने अपने आवास पर घोटाले के आरोपियों से मुलाकात की और ये तब हुआ जब घोटाले की जांच जारी थी।





सर्वोच्च न्यायालय ने मौजूदा सीबीआई निदेशक और दो अन्य अधिकारियों की अध्यक्षता में एसआईटी जांच का निर्देश दिया है। कोर्ट ने कहा कि सीधे तौर पर जांच पर निगरानी रखी जाएगी। पीठ ने कहा, ‘सीबीआई के पूर्व विशेष निदेशक एमएल शर्मा की अध्यक्षता वाली समिति ने पहली नजर में यह पाया है कि सिन्हा ने कोयला घोटाले की जांच को कथित रूप से प्रभावित करने का प्रयास किया था।’

कोर्ट के मुताबिक, कोयला घोटाले में विशेष लोक अभियोजक वरिष्ठ अधिवक्ता आर. ए. चीमा इस मामले में अपने दल के साथ के कानूनी पहलुओं पर सीबीआई निदेशक की मदद करेंगे। जांच ब्यूरो के निदेशक से कहा गया है कि वह इस मामले की सुनवाई की अगली तारीख पर अपने दल के स्वरूप के साथ इस जांच को पूरा करने के लिए लगने वाले समय की जानकारी कोर्ट को दें।

रंजीत सिन्हा के खिलाफ सबूत

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट की तरफ से नियुक्त एम. एल. शर्मा कमेटी ने शुरुआती जांच में सिन्हा को कोयला घोटाला मामले को प्रभावित करने का कसूरवार पाया था। अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने सुप्रीम कोर्ट में कमेटी की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि रंजीत सिन्हा के घर की विजिटर डायरी में मौजूद एंट्री सही लग रही है। कमेटी का मानना है कि रजिस्टर में मौजूद इन एंट्रीज से स्पष्ट होता है कि रंजीत सिन्हा कुछ आरोपियों से मिले थे। सुप्रीम कोर्ट ने रिपोर्ट सार्वजनिक करने के साथ-साथ अगली कार्रवाई पर आदेश सुरक्षित रख लिया।

Comments

Most Popular

To Top