CBI

CBI ने दर्ज की DCI अध्यक्ष समेत 3 पर FIR

डॉ.-दिब्येंदु-मजूमदार

नई दिल्ली। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने सरकार द्वारा संचालित डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया (DCI-डीसीआई) में कथित भ्रष्टाचार के आरोप में अध्यक्ष डॉ. दिब्येंदु मजूमदार, पूर्व सचिव डॉ. एसके ओझा समेत तीन लोगों के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया है। मजूमदार को मामले की सीबीआई जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा को पत्र लिखा था।





मजूमदार को संप्रग सरकार के कार्यकाल में नियुक्त किया गया था। उन पर कथित तौर पर अनियमितताओं, बीडीएस व एमडीएस सीटों की संख्या में वृद्धि के बदले निजी कॉलेजों से आर्थिक लाभ प्राप्त करने सहित कई आरोप हैं।

एफआईआर में पूर्व कार्यवाहक सचिव, डीसीआई, गढ़वा के एक डेंटल कॉलेज एवं अस्पताल के अध्यक्ष, पलामू विश्वविद्यालय के कुलपति का नाम शामिल है। इन पर भारतीय दंड संहिता की धारा 120 बी, 420 और पीसी एक्ट, 1988 की धारा 7, 11 13(1) और 13 (2) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

मजूमदार की डीसीआई के अध्यक्ष रहते हुए सदस्यता 31 मई 2015 को समाप्त हो रही थी। ऐसे में अपने पद पर बने रहने के लिए उन्होंने कथित तौर पर धोखे से झारखण्ड के निजी डेंटल कॉलेज और अस्पताल के पूर्व कुलपति और अध्यक्ष के साथ मिलकर स्वयं को इस कॉलेज का विजिटिंग प्रोफेसर बताकर डीसीआई की सदस्यता प्राप्त की। इसके बाद डीसीआई के पूर्व सचिव के साथ मिलकर फिर से डीसीआई के अध्यक्ष बन गए। इसी डेंटल कॉलेज को बाद में उन्होंने सीटें बढ़ाकर लाभ पहुंचाया बावजूद इसके कि इस कॉलेज के खिलाफ कई शिकायतें थीं।

सीबीआई ने दिल्ली, कोलकाता, रांची और गढ़वा सहित 6 स्थानों पर आरोपियों के निवास और कार्यालय परिसर पर छापेमारी की जिसमें महत्वपूर्ण दस्तावेज मिले हैं।

Comments

Most Popular

To Top